Best Ways to Earn Money Online from Home

Make Money Online

Are you looking for the ways to earn money online?
Did you try to make money online before but did not get success?

Then no need to worry anymore!

Because we have already trained more than 20000 people across the world & they are successfully making $500 to $2000 (more than INR 1,20,000) per month.

We are showing you below some of the best ways to earn money online. You can also download our training package which will help you to grow your income very fast.

Earn Money from Survey
How it Works
Everyday companies pay big bucks to people like you just to know what you’re thinking. They’re
desperate to understand how you think and shop and why you buy certain products. They spend $41
billion each year for market research to help decide if a product is worth their time and money.
This helps them improve their products. So they pay YOU good money for your opinion. They Need
You! Right now, we have hundreds of market research firms looking for survey takers. If you’re
a housewife, stay-at-home mom, student, retired, working full-time, or just looking to make some
extra cash, this is your ticket to fun, easy money!
All you have to do is wake up in the morning, check your email and click on a survey link.
It simply takes a few minutes to answer basic questions about such things as your shopping
preferences. When you’re done, a click of the mouse puts money in your account.

REGISTER NOW and you’ll have instant access to our members area which is updated regularly,
so we always have the latest and best new companies to select from.

Kheere Ke Fayde | खीरा खाने के फायदे

वैसे तो आपने कई बार Kheera ke fayde के बारे में सुना ही होगा, पर जो जानकारी आज आपसे share करने जा रहे है वो शायद आपको
नहीं मालूम होगा |
खीरे (Kheere) के काफी सारे खीरे के फायदे (Kheera ke fayde) है, और इसके गुण के ही कारण इसे हर घर में उपयोग किया जाता है |
खीरा एक सस्ता स्वादिष्ट सलाद होने के साथ ही साथ गर्मियों (summer season) में इसका काफी ज्यादा उपयोग होता है |

खीरा के नियमित सेवन से रक्तचाप नियंत्रित रहता है | Cucumber में पानी की मात्रा अधिक होती है जो गर्मियों में हमारे शरीर के तापमान को नियंत्रित करने के साथ साथ किडनी को स्वस्थ रखने में सहायक है |
खीरे को गोल-गोल काट कर अपने आँख पर रखने से आँख को ठंडक मिलती है एवं आँखो में ताजगी का अनुभव भी होता है |
कपडे पर लगे दाग को हटाने में भी खीर का रस अहम् भूमिका निभाता है | जिस कपड़े में दाग लगे हो उसको खीरे से रगड़ कर धोये और फिर detergent powder से धो डाले, इससे stain (दाग, धब्वे) से छुटकारा पाया जा सकता है |
खीरा में सिलेसा अधिक मात्र में मिलती है जो जोड़ो को मजबूत बनाता है और साथ सी गठिया जैसे रोगों को दूर रखता है |
खीरा में विटामिन ए, बी एवं सी (Vitamin A, B, C) की मात्र पाई जाती है | इसे स्लाइस कर के चेहरे पर रखने से चेहरे पर निखार बना रहता है |

खीरे में सिलिकन व सल्फर बालों की ग्रोथ में मदद करते हैं। अच्छे परिणाम के लिए आप चाहें तो खीरे के जूस को गाजर व पालक के जूस के साथ भी मिलाकर ले सकते हैं। फेस मास्क में शामिल खीरे के रस त्वचा में कसाव लाता है। इसके अलावा खीरा त्वचा को सनबर्न से भी बचाता है। खीरे में मौजूद एस्कोरबिक एसिड व कैफीक एसिड पानी की कमी( जिसके कारण आंखों के नीचे सूजन आने लगती है।) को कम करता है।

खीरे में सिलिकन व सल्फर बालों की ग्रोथ में मदद करते हैं। अच्छे परिणाम के लिए आप चाहें तो खीरे के जूस को गाजर व पालक के जूस के साथ भी मिलाकर ले सकते हैं। फेस मास्क में शामिल खीरे के रस त्वचा में कसाव लाता है। इसके अलावा खीरा त्वचा को सनबर्न से भी बचाता है। खीरे में मौजूद एस्कोरबिक एसिड व कैफीक एसिड पानी की कमी( जिसके कारण आंखों के नीचे सूजन आने लगती है।) को कम करता है।

पाचन के लिए फायदेमंद
खीरे के छिलके में ऐसे फाइबर मौजूद होते हैं जो घुलते नहीं है. ये फाइबर पेट के लिए संजीवनी बूटी की तरह काम करता है. कब्ज की परेशानी को दूर करने में भी ये कारगर है. खीरे के छिलके से पेट अच्छी तरह साफ हो जाता है।

यह हैंगओवर को कम करने में मदद करता है
शराब पीने के बहुत सारे दुष्परिणाम होते हैं उनमें अगले दिन का हैंगओवर बहुत ही कष्ट देनेवाला होता है। इससे बचने के लिए आप रात को सोने से पहले खीरा खाकर सोयें। क्योंकि खीरे में जो विटामिन बी, शुगर और इलेक्ट्रोलाइट होते हैं वे हैंगओवर को कम करने में बहुत मदद करते हैं।

वजन कम करने में सहायक
अगर आप वजन कम करना चाह रही हैं तो आज से खीरे के छिलके को अपनी डाइट का हिस्सा बना लें. वैसे तो खीरा भी वजन कम करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है लेकिन छिलके के साथ इसका सेवन करना और भी अधिक फायदेमंद रहता है।

कैंसर से बचाए
खीरा के नियमित सेवन से कैंसर का खतरा कम होता है। खीरे में साइकोइसोलएरीक्रिस्नोल, लैरीक्रिस्नोल और पाइनोरिस्नोल तत्व होते हैं। ये तत्व सभी तरह के कैंसर जिनमें स्तन कैंसर भी शामिल है के रोकथाम में कारगर हैं।

मुँह के बदबू से राहत दिलाता है
अगर मुँह से बदबू आ रही है तो कुछ मिनटों के लिए मुँह में खीरे का टुकड़ा रख लें क्योंकि यह जीवाणुओं को मारकर धीरे-धीरे बदबू निकलना कम कर देता है। आयुर्वेद के अनुसार पेट में गर्मी होने के कारण मुँह से बदबू निकलता है, खीरा पेट को शीतलता प्रदान करने में मदद करता है।

मासिक धर्म में फायदेमंद
खीरे का नियमित सेवन से मासिक धर्म में होने वाली परेशानियों से छुटकारा मिलता है। लड़कियों को मासिक धर्म के दौरान काफी परेशानी होती है, वो दही में खीरे को कसकर उसमें पुदीना, काला नमक, काली मिर्च, जीरा और हींग डालकर रायता बनाकर खाएं इससे उन्हें काफी आराम मिलेगा।

विटामिन के का अच्छा माध्यम
खीरे के छिलके में विटामिन-के पर्याप्त मात्रा में मिलता है. ये विटामिन प्रोटीन को एक्ट‍िव करने का काम करता है. जिसकी वजह से कोशिकाओं के विकास में मदद मिलती है. साथ ही इससे ब्लड-क्लॉटिंग की समस्या भी पनपने नहीं पाती है।

आंखों के लिए
छिलके समेत खीरा खाने से आंख की रौशनी अच्छी रहती है. इसके छिलके में बीटा कैरोटीन होता है, जिससे आंखों की रौशनी अच्छी होती है।

मसूडे स्वस्थ रहते है
खीरा खाने से मसूडों की बीमारी कम होती हैं। खीरे के एक टुकड़े को जीभ से मुंह के ऊपरी हिस्से पर आधा मिनट तक रोकें। ऐसे में खीरे से निकलने वाला फाइटोकैमिकल मुंह की दुर्गंध को खत्म करता है।

त्वचा के लिए
टैनिंग और सनबर्न में भी खीरे के छिलके का इस्तेमाल फायदेमंद साबित होता है. इससे त्वचा का रूखापन भी कम होता है और मॉश्चराइजर बना रहता है. खीरा काटने के बाद आप उसके छिलके को हल्के हाथों से लगा सकती हैं. कई लोग इसके छिलके को सुखाकर पीस लेते हैं और उसमें गुलाबजल की बूंदें मिलकार फेस पैक की तरह इस्तेमाल करते हैं।

मानसिक तनाव के लक्षण

डिप्रेशन या मानसिक तनाव इतना बढ़ता जा रहा है कि स्वास्थ्य दिवस के दिन इसपर फोकस करना ज्यादा जरूरी हो गया है।
हर कोई कभी ना कभी किसी ना किसी उम्र में आकर इस मानसिक अवस्था से गुजरता है।

हमारे आस-पास हमारे अपने, रिश्तेदार, दोस्त हर कोई ऐसी स्थिति का सामना करता है, लेकिन हम समझ नहीं पाते हैं। जब
तक हम समझ पाते हैं तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। बातें सब करते हैं, चर्चाएं होती हैं, लेकिन डिप्रेशन को समझ पाना बहुत ही मुश्किल है।

हमारे अपने ही इस दलदल में फंसते जाते हैं और हम उनके लिए कुछ नहीं कर पाते हैं। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) के अनुसार हर तीन में से एक इंसान डिप्रेशन का शिकार होता है। WHO की रिपोर्ट के मुताबिक 2006 से 2015 के बीच पूरी दुनिया में डिप्रेशन के मरीजों की संख्या में 18 फीसदी से ज्यादा हो गई है। पूरे विश्व में लगभग 320 करोड़ डिप्रेशन के शिकार हैं।

कहीं आप तो डिप्रेशन का शिकार नहीं

जीवन में समस्याएं आती हैं, रोजाना हमारे साथ कुछ ऐसा होता है जो हमारी इच्छा और हालात के विपरीत होता है। लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि हम जीवन से निराश हो जाएं। बदलती लाइफस्टाइल आपको जितना मॉर्डन कर रही है उतना ही निराशाजनक भी कर रही है।

हम हर छोटी बात पर पैनिक होने लगे हैं। उदास होने लगे हैं और निराश भी। लेकिन अगर हम किसी भी समस्या को लंबे समय तक लेकर चलें
और सोचें कि ये जीवन का हिस्सा है और हम जीवन के प्रति वो प्यार खो बैठें तो ये अच्छा नहीं है। यही डिप्रेशन की ओर बढ़ता कदम माना जाएगा।

आज हम आपको बताएँगे कि आप कैसे समझेंगे कि आप डिप्रेशन का शिकार हो रहें है। आपके अंदर मानसिक तनाव बढ़ रहा है। वैसे ये अचानक नहीं होता है, लंबे समय तक इसके संकेत दिखते हैं। जब कोई भी आदत लंबे समय तक आपके अंदर घर करने लगे, आप नकारात्मक तरीके से पेश आने लगे तो समझें कि कुछ गड़बड़ है।

अगर आप छोटी-छोटी बातों पर परेशान रहने लगे। हर बात पर गुस्सा करने लगे तो ध्यान दें और सोचे आखिर बात क्या है।

किसी की बात पर आपको विश्वास ना हो, किसी से मिलने का मन ना करें, तो आप समझ लें कि आप डिप्रेशन के शिकार होते जा रहे हैं।

अगर अचानक आपके रातों की नींद उड़ जाए, रात को सोते-सोते अचानक जागकर बैठ जाएं, डर लगे तो भी आपको ध्यान देने की जरूरत है।

अगर आप इतने परेशान रहने लगे कि आपको अपनी जिंदगी प्यारी ना लगें, आप सुसाइड करने के बारे में सोचने लगें। जब जिंदगी से निराश हो जाएं और जिंदगी खत्म करने का दिल करने लगे।

अगर आपका मन चुपचाप एक कोने में बैठा रहने को करे किसी से बात करने का मन ना करे

खाना अच्छा न लगे, चिड़चिड़ाहट हो, खामखा नाराजगी हो, नकारात्मक विचार आए, आत्मविश्वास खत्म होता सा नजर आए

कई बार अकेलेपन से डर लगता है लेकिन अकेले रहने का मन भी करता है। भीड़ अच्छी नहीं लगती है। आपके शरीर के कई अंगों में दर्द होने लगता है। विटामिन्स की कमी होती है। तो मतलब आपकी मानसिक स्थिति अच्छी नहीं है।

समाधान क्या है ?

हम इतने मॉर्डन होते जा रहे हैं, टैबलेट, स्मार्ट फोन और इंटरनेट के जमाने में जहां एक क्लिक पर सब मिल जाता है, वहां जज्बात कहीं खो से गए हैं।
हमें तुरंत सब चीजें मिलने लगी है, इसलिए चीजें और रिश्तों की अहमियत कम हो गई है। हम जज्बातों से दूर हो गए हैं, असंवेदनशील हो गए हैं।
ये सही नहीं है। वास्तव मैं हम सामाजिक हैं यदि हम अपनी सामाजिक गतिविधि पर ध्यान नहीं देंगे तो ये समस्या और बाद जाएगी ,हमें इस लाइफस्टाइल से थोड़ा दूर होकर असलियत में आना चाहिए। जो हमारी खुद की जिंदगी है, लोगों से रिश्तेदारों से बनी है।
हमें किसी रेस का हिस्सा नहीं बनना चाहिए जो हमारे जीवन का वास्तविक सुख हमसे छीन ले। थोडा वक्त दे अपने परिवारी जनो को अपने मित्रों को उनसे बात कीजिये उनकी सुनिए अपना विचार उन्हें बताएं उनके विचार नहे सुनाएँ ।

जिंदगी में बैलेंस बनाएं
ऑफिस, घर और अपनी सोशल लाइफ में एक बैलेंस बनाएं। सब कुछ थोड़ा थोड़ा करें। जिदंगी में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं,
लेकिन कभी ज्यादा खुश और कभी ज्यादा दुखी नहीं होना है। अपने जज्बातों पर काबू पाना है। लेकिन ये भी जरूरी है कि आप आजादी से अपने जज्बात अपनों के सामने रख सकें। अपने आस-पास अपनों का वातावरण हो।

संपर्क बनाए रखें
परिवार, रिश्ते और दोस्तों के साथ एक संपर्क बनाएं रखें। भले आप कितना भी व्यस्त हैं, दुनिया कहीं भी जा रही है, लेकिन पूरे दिन में कम से कम कुछ वक्त अपने और अपनों के लिए निकालें। उनसे बातें करें और प्यार करें। कम्यूनिकेशन को बरकरार रखें।

अच्छे श्रोता बनें
जरूरी है कि आप केवल अपनी बातें न कहें, बल्कि अच्छे श्रोता बने और लोगों की बातें सुने। अगर आपका कोई अपना कुछ कहना चाह रहा है, उसके लिए वक्त निकालें। दोस्त, परिवार और अपनों के लिए वक्त निकालें और उनकी बातें सुनें।

हॉबी से मोहब्बत करें
काम के अलावा अपनी हॉबी से प्यार करें। आपको जो भी अच्छा लगता है उसपर काम करें। उसके लिए वक्त निकालें। हॉबी जो आपको खुशी दे, एनर्जी दे। उसके प्रति ऊर्जावान हों। उसके लिए समय निकालें।

धूप
अगर सुबह सुबह रोजाना सूरज के सामने या धूप से रू-ब-रू हुआ जाए तो आपको कभी डिप्रेशन नहीं होगा।खुद से और सूरज से 5 मिनट बात करें। देखें इसका असर कितना गहरा होगा।